Bihar Current Affairs (June 1-7)

Weekly Bihar Current Affairs (June 2019, First Week)

👉🏻Weekly Bihar Current Affairs (July 2019, first week)

  • घर की छतों पर सब्जी उगाने के लिए बिहार सरकार देगी 25 हजार रुपए: सरकार ने अब शहर में हरित क्षेत्र बढ़ाने के लिए घरों की छतों पर बागवानी करने की योजना बनाई है, जिसमें अब घर की छतों पर लोग सब्जी का उत्पादन कर सकते हैं। इसके लिए सरकार 50 प्रतिशत अनुदान भी देगी।कृषि विभाग की ‘रूफटॉप गार्डनिंग’ नामक यह योजना पहले चरण में राज्य के पांच शहरों- पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर और बिहारशरीफ में लागू होगी। प्रयोग सफल रहने पर बाद में इसे अन्य शहरों में भी लागू किया जाएगा।
  • बिहार के 20 हजार स्कूलों में अब हरी सब्जियां भी उगाएंगे बच्चे: राज्य  के पांचवीं और आठवीं कक्षा स्तर तक के 20 हजार स्कूलों में ‘पोषण वाटिका’ विकसित करने की योजना बनाई है। इसके तहत राज्य के इन 20 हजार स्कूलों से जमीन और चाहरदीवारी का ब्यौरा मांगा गया है, जहां सब्जियों का उत्पादन किया जा सकता है। इनमें जैविक ढंग से सब्जियों का उत्पादन किया जाएगा और इन सब्जियों का उपयोग मध्याह्न भोजन में किया जाएगा। प्रत्येक स्कूल को खाद, कुदाल, बीज सहित खेती का सामान खरीदने के लिए पांच हजार रुपए दिए जाएंगे। इसमें तीन हजार केंद्र और दो हजार रुपए राज्य सरकार देगी।
  • शाहाबाद सोन नहर प्रणाली परियोजना को एडीबी (ADB) की मंजूरी मिली: शाहाबाद क्षेत्र की महत्वाकांक्षी सोन नहर प्रणाली की पक्कीकरण योजना को एशियाई विकास बैंक की हरी झंडी मिलि गयी है। एडीबी इस परियोजना के लिए 2290 करोड़ की मदद देगा। पूरी परियोजना पर 3272.49 करोड़ खर्च होगा।
  • बिहार के किसान अब नहीं जला पाएंगे खेतों में फसलों के पराली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने  जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने-अपने जिले में सुनिश्चित करें कि कोई किसान फसल के अवशेष अपने खेत में न जला सके । पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के दिशा में राज्य सरकार द्वारा उठाया गया इसे एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है ।बिहार कृषि विभाग इस काम में पहले से ही लगा हूआ था लेकिन अब जिलाधिकारियों को भी इसे रोकने की जिम्मेदारी दे दी गई है ।बिहार में कृषि विभाग ने इसे रोकने के लिए किसानों को दी जाने वाली हैपी सीडर के साथ-साथ स्ट्रा रीपर और स्ट्रा बेलर पर अनुदान की राशि बढ़ाकर 80 प्रतिशत कर दिया है ।
  • बेरोजगारों के लिए खुशखबरी, पांच जिलों में बनेंगे मॉडल कॅरियर सेंटर: नीति आयोग की मदद से राज्य के पांच जिलों में मॉडल करियर सेंटर बनाने का तय किया गया है।मॉडल सेंटर बनाने के लिए कटिहार, बेगूसराय, शेखपुरा, अररिया व सीतामढ़ी का चयन किया गया है। बीते वर्षों में पटना, भागलपुर और मुजफ्फरपुर में मॉडल कॅरियर सेंटर खोले जा चुके हैं।
  • 15 अगस्त 2020 के पहले राज्य के हर घर में लगेंगे प्रीपेड मीटर: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिजली कंपनी को 15 अगस्त 2020 के पहले राज्य के हर घर तक प्रीपेड मीटर पहुंचाने का टास्क सौंपा है। कहा कि ऐसा करने से न केवल बिजली बिल से संबंधित गड़बड़ियां दूर होंगी, बल्कि बिजली हानि भी नियंत्रित होगी। लोग जरूरत के अनुसार बिजली जलाएंगे। नीतीश ने अधिवेशन भवन में 692 करोड़ के बिजली परियोजनाओं का शिलान्यास व उद्‌घाटन किया ।
  • बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन के शताब्दी समारोह में देश के सौ साहित्यकार सम्मानित: बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन की स्थापना के सौ वर्ष पूर्ण होने पर पटना में आयोजित शती शताब्दी सम्मान समारोह में भारत वर्ष के विभिन्न प्रांतों से आमंत्रित 100 साहित्यकारों, लेखकों, कवि़यों व रचनाकारों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद की प्रेरणा और संरक्षण में वर्ष 1919 में स्थापित बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन का इतिहास गौरवशाली रहा है। यह संस्था तभी से देशभर में हिंदी भाषा और साहित्य के प्रचार में अपना सराहनीय योगदान देती रही है। अपने सौ वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित शताब्दी समारोह में आज संस्था ने भारतवर्ष के सभी प्रांतों के हिंदी भाषा के विद्वानों को सम्मानित कर इतिहास रचा है।
  • नमामि गंगे परियोजना के तहत बिहार में 3237.69 करोड़ रुपए की योजना: नमामि गंगे परियोजना के तहत बिहार में 3237.69 करोड़ रुपए की योजना बनाई गई है। पहले चरण में लगभग 1900 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है। इसके साथ ही गंगा की फ्रंट की खूबसूरती बढ़ाने के लिए अहमदाबाद में बने साबरमती रिवर फ्रंट की तर्ज पर पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड पटना में 260 करोड़ रुपए के गंगा रिवर फ्रंट परियोजना पर काम कर रही है। जिसके तरह पटना के सभी घाटों को आपस में मिलाने के साथ ही बैठने का स्थान, लाइटिंग, कॉरिडोर, रेस्टूरेंट, लाइब्रेरी, सामुदायिक सह संस्कृति केंद्र, दृश्य श्रव्य सभागार, पर्यावरण केंद्र, म्यूजियम बनाया जा रहा है। गंगा को पटना के सभी घाटों के करीब लाने के लिए हरिद्वार प्रोजेक्ट के तहत काम करने पर विचार किया जा रहा है।
  • मार्च 2021 तक बन जाएंगी राज्य की 1.24 लाख किलोमीटर ग्रामीण सड़कें: राज्य की सभी एक लाख 24 हजार किलोमीटर ग्रामीण सड़कें मार्च 2021 तक बना दी जाएंगी। अब तक 90 हजार 400 किलोमीटर ग्रामीण सड़कों का निर्माण पूरा कर लिया गया है।
  • बख्तियारपुर-रजौली फोर लेन को मंजूरी: पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव एएल मीणा ने कहा कि NHAI ने 108 किलोमीटर लंबाई वाले बख्तियारपुर-रजौली फोर लेन मार्ग का निर्माण करने का निर्णय किया है। बिहार से झारखंड जाने वाले इस महत्वपूर्ण 108 किलोमीटर नेशनल हाइवे को जाम से मुक्त बनाने के लिए सात जगहों (बिहारशरीफ शहर, मोरा तालाब, धमौन, हरनौत, भगन बिगहा, वेना समेत एक और जगह) पर एलिवेटेड रोड का निर्माण होगा ताकि कहीं भी गाड़ियों को जाम का सामना नहीं करना पड़े।
  • बिहार राज्य फसल सहायता योजना: बिहार राज्य फसल सहायता योजना अपने आप में अलग तरह की और फसल बीमा से अलग है। इसमें किसानों को कोई राशि नहीं देनी होती है। फसल सहायता का लाभ रैयती और गैर रैयती दोनों तरह के किसानों को मिलेगा।अगर किसी किसान की वास्तविक उपज दर में 20% तक की कमी आती है तो सरकार द्वारा 7500 रुपय प्रति हेक्टर की दर से किसानों को राशि दी जाएगी | मान लीजिए अगर आपकी सालाना उपज में 20% से जयदा उपज में कम आती है तो उस हालत में सरकार आपको 7500 की जगह 10000 प्रति हेक्टर की दर से राशि देगी |
  • बिहार की तीन खिलाड़ियों का चयन इंडिया रग्बी कैंप में: एशियन वीमेंस 15-ए-साइड रग्बी फुटबॉल चैंपियनशिप में भाग लेनेवाली भारतीय टीम में बिहार की तीन खिलाड़ियों स्वीटी कुमारी (पटना), स्वेता शाही (नालंदा) और कविता कुमारी (खगड़िया) का चयन किया गया है।
  • बिहार मुख्यमंत्री स्वयं सहायता भत्ता योजना: बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री स्वयं सहायता भत्ता योजना  योजना की शुरुआत की है इसका उद्देश्य है बेरोजगार लोगों को 1000 का भत्ता दिया जाएगा । इस योजना में 12वीं पास रोजगारों को हर महीने 1000 की राशि दी जाएगी | रोजगार ढूंढने में मदद मिलेगी बेरोजगार अपने पैरों पर खड़ा हो सकेगा|इससे बेरोजगारी दूर होगी| आवेदक बिहार का रहने वाला होना चाहिए।आवेदक की उम्र 20 से 25 साल तक की होनी चाहिए। आवेदक के पास कोई रोजगार नहीं होना चाहिए। इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को बेसिक कंप्यूटर का कोर्स करना होगा
  • डॉ. अर्चना मिश्रा का अंतरराष्ट्रीय स्तर के युवा अन्वेषक अवार्ड के लिए चयन: मिथिला की बेटी डॉ. अर्चना मिश्रा को schizophrenia (पागलपन) के मरीजों में रेमेलटीऑन दवा के प्रभाव के अध्ययन पर किये गए शोध के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के युवा अन्वेषक आवार्ड के लिए चयन किया गया है।उन्हें इस पुरस्कार से कनाडा के वैंकुवर में 2 से 6 को आयोजित बायोलॉजिकल साइकाइट्री के 14वें विश्व सम्मलेन के अवसर पर नबाजा जायेगा।
Advertisements

One comment